क्रिस्टाडेलफियंस कौन हैं?

क्रिस्टाडेलफियंस कौन हैं?

पढ़ना: जॉन 1 से 5

इस बाइबल पाठ्यक्रम का इरादा शास्त्रों की ओर आपका ध्यान प्रत्यक्ष करना है. हालांकि, आपको आश्चर्य हो सकता है कि क्रिस्टाडेलफियंस कौन है तो हम आपको खुद के बारे में थोड़ा बताना होगा. क्रिस्टाडेलफियंस पुरुषों और महिलाओं के एक विश्व व्यापक समुदाय हैं जिह्नहोने पूरे बाइबल पढ़ा और परमेश्वर की प्रेरणा शब्द के रूप में इसे स्वीकार करते हैं. वे प्रभु यीशु मसीह और दुनिया के भविष्य के विषय में पुराने और नए करार वादों में विश्वास करते हैं. वे पृथ्वी पर भगवान के राज्य की स्थापना के लिए स्वर्ग से यीशु की वापसी के लिए इंतजार कर रहे हैं. क्रिस्टाडेलफियंस नाम दो ग्रीक शब्दों से आता है जिसका मतलब है मसीह में भाइयों.

क्रिस्टाडेलफियंस कहां रहते हैं?

पचास से अधिक देशों में क्रिस्टाडेलफियंस जी रहे हैं. वे ब्रिटेन और यूरोप के कई भागों में पाये जाते  हैं; अफ्रीका में एक दर्जन से अधिक देशों में; भारत से इंडोनेशिया में सुदूर पूर्व में; आस्ट्रेलिया और प्रशांत द्वीप समूह में; कनाडा से अर्जेंटीना और में उत्तर और दक्षिण अमेरिका में. और कैरिबियन के द्वीपों में. समुदाय में पुरुषों और महिलाओं शामिल है वे कई रंगों और संस्कृतियों का मिश्रण है.

वे क्या मानते है?

क्रिस्टाडेलफियंस ऊन बातों पर विश्वास करते है जो  लगभग 2000 साल पहले यीशु और उसके चेलों ने सिखाई जाता थी. ईसाई धर्म का सच्चा संदेश बदला नहीं गया है. दुर्भाग्य से, कई सदियों से कई "ईसाई" चर्चों ने सच्चाई छोड़ दि है और सिद्धांतों में बदल दिया लेकिन प्रतिमापूजक उनका मूल था. दूसरी ओर, वंहा कई जो छोटे समूहों थे जिह्नहोने हमेशा सच का विश्वास किया है. उदाहरण के लिए, यूरोप में 400 से अधिक साल पहले कई लोगने बाइबिल पढ़के सच सुसमाचार किया है यह उनकी अपनी भाषा में मुद्रित किया है खुद के लिए. इन पुरुषों और महिलाओं अपने आपको "मसीह के भाइयों" कहते है. अफसोस की बात है, उनमें से कई निर्दयतापूर्वक अपने विश्वास के लिए मरजाते है कई लोग अपने घरों को छोड़ देते हैं, लेकिन वे पूरे यूरोप में और समुद्र पार सुसमाचार ले गए थे. यह लंबे समय नहीं था, हालांकि, सच्चाई फिर से झूठे शिक्षण के साथ मिश्रित हो गया. (एक सबक यहाँ है-पुरुषों को पढ़ने के लिए और खुद के लिए भगवान के शब्द का अध्ययन जब सच ही रखा हुआ है.)

क्रिस्टाडेलफियंस समुदाय कैसे शुरू हुआ?

1832 में जॉन थॉमस नामक एक अंग्रेजी चिकित्सक, जो एक चर्च उपदेशक था, वे न्यूयॉर्क स्थानांतरित हो गए उसके पिता अमेरिका में बसना चाहते थे. जहाज एक हिंसक तूफान में अटक गया था n और डॉ. थॉमस को लगा वो मर जायेंगे. उन्हें लगे वे भविष्य के बारे बहुत कम जानते है और उसने कसम खाई  अगर उसे जमीन मील गई तो वह मृत्यु के बाद के जीवन के बारे में पता लगाना चाहेगा तब तक वह चैन से नहीं बैठेगा. खैर, वह न्यूयॉर्क पहुँच के उसने अपना वचन निभाया. उन्होंने बाइबल का अध्ययन करने के लिए अगले 15 साल बिताये और बहुत ध्यान से कई "ईसाई" संप्रदायों के दावों की जांच की. जब उसे यकीन था जब आ गया की उसने पुरानी और नई Test टेस्टामेंट समज ली है यीशु मसीह और वह बपतिस्मा लेने की व्यवस्था की पृथ्वी पर भगवान के आने वाले राज्य के विषय में पूर्ण विसर्जन द्वारा. उन्होंने  अमेरिका और ब्रिटेन में ज्यादा सार्वजनिक उपदेश करना जारी रखा और धार्मिक पत्रिकाओं और पुस्तकों का उत्पादन किया. उसी शिक्षाओं में जो लोगों विश्वास करने लगे और रॉबर्ट रॉबर्ट्स नामक एक स्कॉट्समैन था जो उसके काम में शामिल हो गए. उन्होंने ecclesias उपदेश में अनुयायियों की बढ़ती संख्या को व्यवस्थित करने में मदद की. "नियमित सभा" एक बाइबिल शब्द है जिसका मतलब “ लोगों की एक सभा जिसे बुलाया गया है”. क्रिस्टाडेलफियंस  इस शब्द का प्रयोग करना पसंद करते हैं. जो कभी कभी इमारत अर्थ देता है   नाकि विशेष समूह के लोगों.

सबसे पहले नाम थोड़ा अजीब लग सकता है

क्रिस्टाडेलफियंस नाम सबसे पहले 1864 में इस्तेमाल किया गया था जब विश्वासियों ने अमेरिकी सरकार से कहा कि वे अमेरिकी गृह युद्ध के समय में एक अलग समुदाय के रूप में सदस्यों की पहचान करने के लिए एक नाम की जरूरत है, जॉन थॉमस को 300 साल पहले का "मसीह में भाइयों" याद आया. और उसनेhristadel क्रिस्टाडेलफियंस नाम का इस्तेमाल किया. यह एक ग्रीक शब्द है. ये 19 वीं सदी क्रिस्टाडेलफियंस महान यात्रियों थे और उन्होने दुनिया के कई हिस्सों में प्रचार किया सदी के अंत तक कई देशों में विश्वासियों के गुट बन गए थे.

कैसे क्रिस्टाडेलफियंस खुद को कैसे स्थापित करते हैं?

मिशनरी कार्य के आयोजन के लिए और बीमार, बूढ़े, और अकेला की देखभाल के लिए अनेक विभिन्न समितियां हैं. हमारे पत्रिकाओं और पुस्तकों के प्रकाशित करने के लिए कुछ देशों में कार्यालय है.

लेकिन हमारे कोई भुगतान मंत्रियों और कोई केंद्रीय संगठन नहीं है. वित्तीय जरूरतों सदस्यों कि स्वैच्छिक कोशिश से पूरी होती है. हमारे कोई पुजारी नहीं है.

लेकिन आप पूछ सकते हैं:सभी सदस्यों को संपर्क करने के लिए कोई केंद्रीय समिति नहीं है तो क्रिस्टाडेलफियंस खुद को कैसे व्यवस्थित करते हैं? जवाब है कि हमारा आम विश्वास और हमारी आम प्रथाओं एक साथ सदस्यों बांधता है जो आवश्यक बंधन प्रदान कर्ता हैं. प्रत्येक स्थानीय समूह आत्म निहित है और अपने स्वयं के "बड़ों" आमतौर पर साल में एक बार मतदान से नियुक्त करती है,वे नियुक्त कर रहे हैं इस तरह के सचिव, कोषाध्यक्ष, कोषाध्यक्ष या बैठकों के अध्यक्ष के रूप में विभिन्न कर्तव्यों में नियमित सभा में. वे अपने काम के लिए भुगतान नहीं कर रहे हैं. वे "पुजारी" नहीं हैं क्योंकि हम मानते हैं यीशु में अब स्वर्ग में, केवल वोह पुजारी है.अपने चर्च के सदस्यों प्रार्थना में उनके पापों को स्वीकार कर सकते हैं बपतिस्मा के लिए. क्रिस्टाडेलफियंस विशाल, व्यापक चर्च भवनों का निर्माण नहीं करते. बेशक, कुछ स्थानों हैं नियमित सभा बैठक और उपदेश के लिए अपने स्वयं के हॉल या कमरे  खुद के बनाने में सक्षम होते हैं. दूसरी जगहों पर वे किराए पर रखा स्कूल कमरे, सामुदायिक हॉल या घरों में में मिलते हैं.

एक ही आस्था

क्रिस्टाडेलफियंस, वे रहते हैं दुनिया का जो भी भाग में, पढ़ने के लिए और उनकी बाइबल का अध्ययन करते है और एक ही आवश्यक आस्था को मानते है. 100 से अधिक वर्षों से  हमारे लिए हमारे विश्वास का एक वक्तव्य पड़ा है(बाइबल के सिद्धांतों का एक सारांश) जो हर सदस्य अन्य सदस्यों के साथ सहभागिता के आधार के रूप में उसका स्वीकार करता है. किसी को बपतिस्मा देनेसे अगर वो स्टाडेलफियंस हो जाता है इससे पहले कि वह (या वह) वह बाइबल की महत्वपूर्ण शिक्षाओं समझता है और खुदको संतुष्ट करता है और वह हमारे बाइबिल आधारित विश्वासों और प्रथाओं के साथ पूरी तरह सहमत होना चाहिए. यह क्रिस्टाडेलफियंस को एक साथ बांधता है.

"एक शरीर ... एक भगवान, एक विश्वास, एक ही बपतिस्मा" (इफिसियों 4:4-5)

यह क्रिस्टाडेलफियंस के लिए संभव बनाता है, ताकि वे जहाँ भी रहते हैं, एक दूसरे के साथ एक खुश और पुरस्कृत फेलोशिप साझा करते है.

हम लोगों की तरह बनने की कोशिश करते है

हम सब को भगवान की मदद की जरूरत है. इसलिए हमारा यह प्रार्थना करना बहुत महत्वपूर्ण है.हम हर दिन बाइबल पढ़ने की कोशिश करते है. यह दैनिक के भोजन जितना ही महत्वपूर्ण है. एक सप्ताह में एक बार हम रोटी का एक छोटा सा टुकड़ा खाने के लिए और प्रभु यीशु मसीह की मृत्यु की स्मृति में शराब की एक घूंट पीने के लिए मिलते हैं. आपको क्रिस्टाडेलफियंस बहुत खुश लोग लगेगे क्योंकि उसकी एक निश्चित और व्यावहारिक आस्था है. लेकिन हम हमारे जीने के तरीके के बारे में बहुत गंभीर हैं. क्योंकि यीशु बहुत जल्द ही वापस आयेंगे हमें उसके आने के लिए तैयार रहना chahiyeचाहिए. इसका मतलब भारी पीने, जुआ और अन्य बुरी आदतों से बचने का है. क्रिस्टाडेलफियंस उनके देश के कानून का पालन करने वाला नागरिक हैं. वे सब सकते अच्छा करने की कोशिश करते है, लेकिन वे राजनीति में हिस्सा नहीं लेते नही वो लड़ते है या अदालत में लोगों को ले जाते है. वो केवल एक ही पत्नी को रखते है. और शादी से पहले या बाहर सेक्स संबंध रखते नहीं. (हमें एहसास है कुछ पहले से ही एक से अधिक पत्नी रखते है, और इस मामले में पाठ 33 में चर्चा में है.)

क्रिस्टाडेलफियंस बाइबिल मिशन

सीबीएम, हम इसे कहते हैं, पूरी दुनिया में परमेश्वर के राज्य का सुसमाचार प्रचार के लिए है. सीबीएम अध्ययन पाठ्यक्रम को विज्ञापित, प्रिंट साहित्य और लोगों को बाइबिल को समझने में मदद करता है.सीबीएम अवैतनिक क्रिस्टाडेलफियंस स्वयंसेवकों का स्टाफ़ staffedहै साथ ही साथ यह काम करते हैं और अपने सामान्य रोजगार का कम करते हैं. इसका उद्देश्य इंजील जानने के लिए पुरुषों और महिलाओं की मदद करने के लिए है पश्चाताप करने के लिए उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए और बपतिस्मा करते हैं,और यीशु के उदाहरण और प्रेरितों का पालन करने का काम करते है.

हम आप के साथ सही विश्वासों, आशा और खुशी साझा करना चाहते हैं

क्रिस्टाडेलफियंस ईमानदारी से अपने विश्वास सच्चा सुसमाचार का प्रतिनिधित्व करता है उनका मानना ​​है कि बाइबिल में हैं. हमें उम्मीद है कि आपको भी सत्य की खोज में मजा आएगा. यह सही है न केवल संतुष्ट क्योंकि यह आपके जीवन में आशा, खुशी और प्यार लाता है. भगवान आपको अपने तलाश में आपका भला करे. कुछ महत्वपूर्ण बाइबिल शिक्षाओं अगले पृष्ठ पर मुद्रित कर रहे हैं पढ़ने के लिए वर्सेज:भजन 119:130; मैथ्यू 28:19-20; जॉन 17:03

दिल से जानें: जॉन 15:13-14

कुछ महत्वपूर्ण बाइबिल शिक्षाओं

* बाइबल परमेश्वर का ही सही संदेश है.

* केवल एक ईश्वर, सृष्टिकर्ता है विश्व मामलों के नियंत्रण में करते है.

* यीशु मसीह मरियम का जन्म भगवान का बेटा है. वह एक निष्पाप आदमी था. उसकी क्रूस पर मृत्यु हो उन लोगों को बचाने के लिए जो उन पर विश्वास करते है.वो कब्र से जाग गए है और अब स्वर्ग में है यीशु स्वर्ग से जल्द ही वापस आ जायेंगे. उन्होंने कहा कि वो पृथ्वी पर परमेश्वर का राज्य स्थापित करेंगे. उन्होंने कहा कि वो राजा के रूप में शासन करेंगे और उसकी राजधानी इस्राएल के देश में यरूशलेम होगी.

* यहूदियों उनके उद्देश्य के लिए भगवान के गवाह हैं, भले ही उनमें से कई को यह एहसास नहीं है. भगवान ने अब्राहम और डेविड को वादे किए, जो अब पूरे हो जायेंगे यीशु वापस आते ही.

* मौत पाप के लिए सज़ा है और सभी पुरुषों पापी हैं. मृत्यु के बाद जीवन की ही उम्मीद है कि यीशु की वापसी पर कब्र से शारीरिक जी उठने से.

* तब निर्णय होगा. जो लोग यीशु के वफादार अनुयायी हैं उने अनन्त जीवन दिया जाएगा और वे उसे दुनिया की समस्याओं को हल करने और सभी राष्ट्रों के लिए शांति और आशीर्वाद लाने में मदद करेंगे

* हमें सुसमाचार पर विश्वास करना चाहिए,हमारे पापों से पश्चाताप और बपतिस्मा किया जाये. अगर हम भगवान की आज्ञा का पालन करने के लिए कड़ी मेहनत की कोशिश करते रहे,असफल होने पर क्षमा के लिए प्रार्थना करे तो हम बच जाएगा.

* अतीत और वर्तमान में दुनिया की घटनाओं के बारे में बाइबल कि सब भविष्यवाणी सच होती रही हैं. यह संकेत देता है कि पृथ्वी पर यीशु मसीह की वापसी का समय बहुत निकट है. यही कारण है कि अब आपको अपने बाइबल का अध्ययन करना चाहिए.

Swahili Title: 
Wakristadelfia ni watu gani? - Somo la 02
Swahili Word file: 
Chichewa file: 
Hebew file: